म बज्रपात गर्दछु (पञ्चचामर ) रचनाकार :कनकधारा स्वामी स्वदेशानन्द


रचनाकार :कनकधारा स्वामी स्वदेशानन्द

 

18921955_1792537644094869_7412009855593061052_n

अजेय हूँ,अभेद्य हूँ ,म भेदभाव मेट्दछु।
म भूमिपुत्र देशको, म राष्ट्रगीत लेख्तछु।
विधान हूँ स्वदेशको, म न्याय हूँ स्वदेशकै।
म गीत हूँ स्वदेशको, म ताल हूँ स्वदेशकै।।०१।।

म जाति-पाति देशकै र धर्म,कर्म देशकै।
म खेतमा र बागमा, म झारपात देशकै।
हिमालमा, तराइमा, पहाड़मा, मधेशमा।
जताततै म देश हूँ, अनेक भाव-व्यक्तमा।।०२।।

म शुद्ध हूँ नदीहरू, म तीर्थ हूँ हिमालय।
म सौम्य,शान्ति बुद्ध हूँ, म देशकै शिवालय।
म शव्द हूँ, म ब्रह्म हूँ, म वेद हूँ,पुराण हूँ।
म देशको निमित्त हूँ, म राष्ट्रवादचित्त हूँ।।०३।।

हिमालमा म जन्मिएँ, हिमालमैं म मर्दछु।
हिमाल राष्ट्रबोधको, म शङ्खघोष गर्दछु।
म शक्ति,भक्ति देशको, भविष्यको म सोच हूँ।
समस्त राष्ट्र-राष्ट्रमा, म सार्वभौम राष्ट्र हूँ।।०४।।

नहेप है, नहेप है छिमेकका मनुष्य हो!
म सूर,वीर,वाण हूँ,म काल हूँ हिमालको।
म बज्र हूँ, कठोर हूँ म शत्रुनाश गर्दछु।
म अस्त्र,शस्त्र,क्रुद्ध हूँ म बज्रपात गर्दछु।।०५।।

रचनाकालः 08 दिसम्बर 2016
समयः दिउँसो 2बजेतिर
स्थानः नौजान,गोलाघाट(असम) भारत


Write A Suggestion

%d bloggers like this: